मोबाइल की लत (Addiction Smartphone)


नमस्कार दोस्तों,

 जैसे जैसे समय बढता चला जा रहा है दुनिया भी उतनी ही गति से विकास के नये नये चरण को 
  पार कर रहा है, विज्ञान की आज ये प्रगति हमें हर समय चकित करती है और यही विचार हमारे   मन में निरंतर आती रहती है की विज्ञान का अगला चरण क्या होगा? विज्ञान ने हमे बहुत कुछ   दिया है शायद जिसके बिना हम अब अपने जीवन के बारे में सोच भी नही सकेते  , उसी में से   एक  है "मोबाइल फ़ोन" जिसका उपयोग आज हर व्यक्तियो के लिये जरूरत बन गयी है !


 आज से कुछ साल पहले मोबाइल का प्रयोग केवल बात करने के लिये ही किया जाता था परन्तु   आज मोबाइल से मानव का लगभग हर कार्य सम्पन्न हो रहा है, आज के स्मार्टफ़ोन जिसका   प्रयोग  हर वर्ग का व्यक्ति करता ही है, इसका उपयोग आज के समय के लिये एक गभीर स्थिति   पैदा कर रहा है जिसके बारे हम आज चर्चा करेगे !


 जब मोबाइल का अविष्कार हुआ तो इसका इस्तेमाल केवल बात करने के लिये किया जाता था ,   परन्तु आज विज्ञान की बढत ने उस मोबाइल को चलता फिरता कंप्यूटर से भी शक्तिशाली बना   दिया है, और आज के समय में इसांन अपने मोबाइल से इस तरह जुड़ा हुआ है की उसे यह ज्ञात   ही  नही है की वो आज कितने गभीर बीमारी की चपेट में है !


 आज कही भी देख लो हर तरफ सिर झुकाये नजरे केवल मोबाइल स्क्रीन पर ही रहती है, हर   तरफ सब मोबाइल पर ही व्यस्त रहते है न किसी से बात चित और न किसे से हाय हेल्लो बस   मोबाइल पर ही अपना सारा समय व्यतीत करते नजर आते है, फिर चाहे ट्रेन हो, या बस हो, लोग   कई कई घंटे का सफर सिर्फ मोबाइल पर ही बिताते है ! इस पर मुझे महशूर शायर गुलजार की   एक पक्तियां याद आती है :-

   “ की रात भर चलती रही उगलिया मोबाइल पर, और सीने पर किताब रख कर सोये जमना हो        गया ” !

 पहले के समय में जब लोग ट्रेनो में या अन्य किसी में भी सफर करते थे तो अपने आस पास के   लोगो से बाते , हसी मजाक करते कुछ पढते पढते या अपनी पसंद की किताबों को पढते हुये   अपने  सफर का मजा लेते हुये सफर पूर्ण करते थे. परन्तु आज हमे ये सब दिखाना नसीब नही   होता, सब अपने मोबाइल पर ही व्यस्त रहते है. आस पास के वातावरण में उन्हें कोई रूचि नही   होती है, इस मोबाइल के कारण ही हम आज लोगो से समाज से दूर, अपनापन खोते जा रहे है !   आज तो स्थिति यह है की लोग अपने घर पर एक साथ नही बैठते सभी अलग - अलग अपने –   अपने कमरो में ही रहना ज्यादा पसंद करते है, आस - पास होने के बाद भी सभी अपने मोबाइल   पर ही व्यस्त रहते है !



 ऐसी ना जाने कितनी समस्या है, जिसे हम लोग हल्के में या समान्य सी घटना समझते है,     मोबाइल के कारण जो समस्या  हमे अभी देखने को मिल रही है और जो भविष्य में हमे देखने   को  मिलगी उसके बारे में हमे तनिक भी विचार नही करते है उसके फलस्वरूप अपना समय   मोबाइल पर बीतना ज्यादा उचित समझते है !


 आज समस्या इतनी गभीर होते जा रही है की. लोग मोबाइल पर 5000  से ज्यादा दोस्त बना रखे है, पर अपने संगे भाई से बात-चित नही है. ऐसे कई उदा: है जिसके बारे में हम कभी विचार भी नही करते है !


 मोबाइल का सबसे बुरा प्रभाव बच्चो पर हुआ है ! जहा एक समय खाली समय मिलेने पर तो बच्चे बस मैदान पर ही दिखाई पड़ते थे, परन्तु आज वही बच्चे बस मोबाइल पर ही गेम खेलते दिखाई पड़ते है. इसका असर उनके दिमाग पर ही नही बल्कि पूरे शरीर पर भी पड़ रहा है, आज के बच्चे दिमागी रूप से कमजोर, और शरारिक रूप से अस्वस्थ है !


      - कुछ ऐसी समस्या है जो मोबाइल के कारण उत्पन्न हुई है !

   ऐसी समस्या जो मुझे लगती है की वहा मोबाइल के कारण हो रही है जो निम्न है :-

1             1.      मोटापा !

               2.   मानसिक तनाव !

               3.    सामान्य दिमाग का विकास न होना !

               4.    आचार – विचारों में भेद !

               5.     आलस !

               6.       क्रोध !

                         7.     स्वस्थ संबंधित रोग !

               8.   कम उम्र में चश्मा लगना !

               9.    समाज से दुरी बना रखना !

                        10.   अवसाद में रहना !

              11.    रीढ़ के हड्डी में प्रभाव !

              12.    चिढ चिढापन रहना !

              13.   अनुशासनहीन होना !

              14.    पढाई में कमजोर होना !

              15.   अपना निर्णय नही ले पाना !

              16.   द्बुपन का होना !

              17.   आत्मविश्वास की कमी होना !

              18.   गलत राहों में जाना !

              19.   बात करने में झिज्कना !

                    20.   शब्दों का सही ज्ञान ना होना !


ऐसी न जाने कितनी समस्या है, जिसको आज हम देख कर अनदेखा कर रहे है क्यूकी ये कार्य हम स्वयं कर रहे है, तो अपने बच्चो से हम क्या आशा रख सकते है, आज भले ही मोबाइल स्मार्ट हो गया है पर इंसान बेवकूफ हो गया है! 

तो आज के लिये इतना ही तब तक के लिये फिट रहो हिट रहो !

            

Previous Post
Next Post
Related Posts

0 Comments:

please do not enter any spam link in the comment box